DSC02021

 
पहले जब मम्मा या पापा ऑफिस जाते थे तो मैं भी उनके साथ जाने की जिद करती थी. पर अब मैं समझदार हो गयी हूँ. मुझे पता है की ऑफिस तो जाना पड़ता है ना…
 
इसलिए अब जब मम्मा ऑफिस जाने के लिए तैयार हो रही होती हैं तो मैं रोज़ ऐसे पूछती हूँ, ” मम्मा… ओफिछ…. ओफिछ…. ?
 
फिर जब मम्मा हाँ में जवाब देती हैं, तो मैं फिर से अपने खेल में बिजी हो जाती हूँ.
 
क्यूँ है ना समझदारी वाली बात 🙂
 
 
  

________________________ 

Christmas

कल क्रिसमस है और आप सभी को मेरी तरफ से क्रिसमस की अग्रिम बधाई…

 

फिर मिलते हैं…. बाय

 – आपकी लवी